जान लो पूरा सच Kya Bhagwaan Hote Hain भगवान सच में होते हैं? Is GOD Real?

क्या सच में भगवान होते हैं? अगर आपके मन में यह कभी ख्याल आया है की Is GOD Real? हमे उम्मीद है की आपको यह सवाल बहुत परेशान करता है तो चलिए आज हमको बताएंगे की क्या भगवान् सच में होते हैं.

Kya Bhagwaan Hote Hain

दोस्तों आज से हज़ारों साल पहले हमारे हिंदुस्तान में धार्मिक ग्रंथ और बहुत सारी कहानियाँ लिखी गयीं जिनमे यह दिखाया गया की भगवान सच में होते है kya bhagwaan sach mein hote hain?.

इस टॉपिक को हम एक लाइन में ही ख़त्म कर सकते हैं पर बिना ज्ञान के समझी गयी कोई भी चीज़ एक दिन ज़हर (Zahar) बन जाती है.

इसीलिए हम आपको Examples के साथ सही ज्ञान की जानकारी देंगे जिससे  सच साबित हो जाएगा और आपकी ज़िंदगी में एक नयी उम्मीद आ जाएगी.

यह भी पढ़ें > Padhai kaise Kare Tips

दोस्तों जब एक नई सरकार बनती है तो वह लोगो को अपने control में करने के लिए जा तो दंगे करवाती है और जा तो उनको sweet pills देकर कण्ट्रोल में किया जाता है.

वैसे ही भोले भाले लोगों को वश में करने के लिए पुजारी ने चंद पैसों के लिए हमारे ऊपर भगवान् नाम की शक्ति को बना कर हमारे ऊपर बैठा दिया जिससे लोगों के अंदर डर बन जाये और वो इन पुजारिओं को दान के नाम पर  पैसे दें.

हिन्दू‌ ‌धर्म‌ ‌के‌ ‌बर्ह्मणो‌ ‌को‌ ‌इस‌ ‌बात‌ ‌का‌ ‌ज्ञान‌ ‌था‌ ‌की‌ ‌लोगों‌ ‌को‌ ‌पूर्ण‌ ‌रूप‌ ‌से‌ ‌control‌ ‌कैसे‌ ‌किया‌ ‌जाता‌ ‌है‌ ‌और‌ ‌कैसे‌ लोगों‌ ‌के‌ ‌उप्पर‌ ‌राज‌ ‌करके‌ ‌उनका‌ ‌शोशण‌ ‌कर‌ ‌सकते‌ ‌हैं.‌ 
 
‌अगर‌ ‌आज‌ ‌हमारा‌ ‌देश‌ ‌गरीबी‌ ‌की‌ ‌हालत‌ ‌में‌ ‌है‌ ‌तो‌ ‌यह‌ ‌सिर्फ‌ ‌और‌ ‌सिर्फ‌ ‌पुजारियों‌ ‌के‌ ‌बनाये‌ ‌हुए‌ ‌भगवान्‌ ‌की‌ ‌वजह‌ ‌से‌ ‌और‌ ‌जो‌ ‌भी‌ ‌धर्मो‌ ‌को‌ ‌लेकर‌ ‌लोगों‌ ‌के‌ ‌साथ गलत करते हैं ‌और‌ ‌समय‌ ‌बर्बादी‌ ‌हम‌ ‌सबके‌ ‌बनाये‌ ‌हुए‌ ‌भगवान्‌ ‌की‌ ‌देन‌ ‌हैं.‌ 
 
Is GOD Real? Kya bhagwaan Sach Me Hain?
 

नहीं, भगवान् जैसी कोई भी शक्ति इस दुनियां में नहीं है दोस्तों, जिन भगवान् की हम पूजा करते हैं असल में वह एक शातिर पुजारी का बनाया हुआ काल्पनिक भगवान् है.

तो फिर भगवान् क्या है और धार्मिक ग्रंथ का क्या सच है?

पूर्ण रूप से भगवान् एक सोच है जिसको अपने अंदर भरकर हम एक नए समाज की उत्पति करने में शक्षम हैं. वो कोई राम जा कृष्ण और फ्यसिकल रूप में नहीं है वो तो एक ऊर्जा के रूप में आपके अंदर already है.

हम यह नहीं बोल रहें की जिनकी आज हम पूजा करते हैं वो कभी थे ही नहीं पर एक इंसान को भगवान बना देना बहुत गलत है. जिनकी हम कहानियां पढ़ते हैं वो एक जोधा, और सूरबीर जरूर होंगे  जिन्हो ने अपने समय में फैली बुरी आदतों और लोगों को सुदारने का प्रयास किया.

kya bhagwaan sach me hote hain
kya bhagwaan sach me hote hain

परंतु कुछ लोगों ने उनके जाने के बाद उनको भगवान् का नाम देकर उनकी पूजा करने  में लोगों का समय ख़राब करने और सबसे बड़ी प्रॉब्लम उनको मानसिक रूप से बीमार करके उनसे पैसे ऐंठे जाने लगे. 

और हज़ारों सालों तक उन पुजारिओं ने भोली जनता का शोषण तो किया है पर साथ ही साथ में बहुत सारी धन सम्पति (Money) को हज़म कर लिया.

फिर कहा से शुरू हुआ भगवान बनने का सिनसिला?

इस बात के पुख्ता सबूत तो नहीं है पर जब आप १२०० जा १३००ईसवी की history को पढ़ेंगे तो आपको बहुत कुछ पता चलेगा क्युकी उससे पुरानी history को पढ़ना मुश्किल भी होगा और हम उस समय की हिस्ट्री को लेके sure भी नहीं होंगे की क्या सच इमें कोई घटना वैसे हुई जैसे लिखी गयी है.

वैसे भी हम किसी धर्म ग्रंथ को पढ़कर आपको कुछ नहीं बता रहे जब आपका दिमाग खुद काम करता हो तो आपको किसी अन्य इंसान की जरूरत नहीं लगती.

दोस्तो, koi भी history एक जैसी नहीं रहती उनमे हर समय बदलाव किये जाते हैं तो आप इस बात से अंदाजा लगा सकते हैं जो आजहम ग्रंथ पढ़ते हैं उनमे पुजारिओं ने कितनी editing करी होगी.  

कुछ सबूत जिनसे आजसे ५०० साल पहले सिद्ध हो गया भगवान् नहीं हैं

1: गुरु नानक चंद सिखों के पहले गुरु थे जब वो अपने दोस्त मरदाना के साथ गंगा किनारे गए तो उन्हों ने देखा की लोग सूरज की तरफ मुँह करके अपने पितरों को पानी दे रहें थे (हिन्दू धर्म के हवाले से पित्रलोग सूरज से करोड़ो दूर रहते हैं)

तो गुरु नानक ने गंगा में उतरकर  पानी को सूरज की उलटी दिशा में देना शुरु कर दिया वहां पर बहुत लोग थे तो किसी एक इंसान ने गुस्से में नानक को कहा की तू उलटी दिशा में किसको पानी दे रहा है? 

पितृलोक तो सूरज से भी करोड़ो गुणा आगे रहते हैं गुरु नानक ने उसकी किसी भी बात का उतर नहीं दिया और पानी सूरज की उलटी दिशा में डालते रहे.

आखिर में उस पंडित ने गुरु नानक को दक्का देकर गुस्से में पूछा उलटी दिशा में क्यों पानी दे रहे हो तो वहां पर  बहुत लोग गुस्से में नानक को घेर लिया.

तो नानक बोले की मेरा गांव इस दिशा के ४००मील दूर है और मेरे खेत पानी ना मिलने की वजह से कहीं सुख न जाएँ इसीलिए में उनको पानी दे रहा हु. 

लोग यह सुनकर और भी गुस्से में आ गए और बोले ए मूरख इंसान यह पानी तेरे खेतों में इतनी दूर कैसे जा सकता है? 

तो नानक मुस्कुराकर बोले अगर आपका डाला पानी करोड़ों मील दूर जा सकता है तो मेरा ४०० मील इसी धरती पर क्यों नहीं जा सकता? यह सुनकर वो लोग शर्मसार हो गए. 

2: नानक चंद ने अपनी बाणी में एकओअंकार बोल कर सारा पाखंड ही ख़त्म कर दिया की भगवान् एक ही है और वो कोई सवर्ग में नहीं बैठा न ही वो फिजिकली है वो तो तुम्हारे अंदर already था जबसे इंसान बना है वो तबसे तुम्हारी सोच में जी रहा है.

साहिब मेरा सदा सदा ना आवय ना जाए

इस लाइन में गुरु नानक चंद ने साफ़ साफ़ बोला है की भगवान तो हमेशा ही तुम्हारे अंदर है और आजतक ना उसका जन्म हुआ है और ना ही वो इस दुनियां से कहि जाएगा.

मतलब साफ़ था गुरु नानक का, इंसान के सोचने की शक्ति कभी ख़त्म नहीं होती और इस धरती में हर वो चीज़ जो हमें दिखाई देती है क्या असल में उसी शक्ति को गुरु नानक चंद ने bhagwaan nahi बोला?

Kya Issi Ko Bhagwaan Kahte Hain?

  1. जब आप अपने से गरीब लोगों ki इज़त और उनकी बुरे समय में मदद करते हैं उसी समय और सोच को भगवान कहा जा सकता है और उसी समय आप एक भगवान् के रूप में उस इंसान की मदद करते हैं. 

  2. और भगवान् उस सोच का नाम है जिससे आप दुसरो को कण्ट्रोल करना छोड़ देते हैं पर उनको गलत कामों के बारे में aware भी करते हैं.

  3. भगवान् उस सोच का नाम हैं जब आप अपने बारे में भूलकर लोगों को सही दिशा और उनका शोषण होने से रोकने का प्रयास करते हैं.

  4. भगवान् उस सोच का नाम है दोस्तों, जब आप दुसरो के भरोसे ना रहकर अपने दिमाग का इस्तेमाल करके लोगों को ख़ुशी और उनकी ज़िंदगी को सरल बनाते hain.

  5. भगवान् उस सोच का नाम है जिसको सोचकर आप और मेरे जैसे लोग ज़िंदगी को पूर्ण रूप से सरल और अंधविश्वास से कैसे बचाया जाये उसपर विचार करते हैं.

दोस्तों, ज़िंदगी को जीने के लिए और किसी सफलता को पाने के लिए आपको किसे के आगे हाथ जोड़ने की जरूरत नहीं है अगर आप यह समझ जाये की भगवान (Bhagwaan) आपकी सोच का ही रूप है और वो ना होते हुए भी आपकी ज़िंदगी (Life) को जीने के लिए आपकी सोच के रूप में आखरी सांस तक आपका सारथी बनकर रहता है.

अगर आपको हाथ किसी के आगे जोड़ने हैं तो उनके आगे जोड़िये जिन्हो ने आपको इस दुनियां में लाया है और उनके आगे हाथ जोड़िये जो आपकी ज़िन्दगी को सही दिशा देने और आपका शोषण होने से रोकते हैं.

सारांश

हमे उम्मीद है की आप जान गए होंगे की kya bhagwaan sach me hote hain और भगवान के सही अर्थ आपको जरूर समझ आ गए होंगे.

आपको अगर कोई भी जानकारी चाहिए तो आप हमसे कमेंट करके पूछ सकते है और अगर आपको यह topic अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें.

Share on:

I love things to do with Career, Digital Marketing. In my free time, I explore new things and business ideas online.

error: Content is protected !!